Started 2 weeks ago

विवाह की पवित्रता की रक्षा के लिए व्यभिचार को अपराध रखना चाहिए धारा-497 फिर से लागु करो

User Image Soch Sayani

10 Supporters

90 More Supporters Needed To Complete 100.
10%

सुप्रीम कोर्ट में अब तक की सुनवाई से साफ है की आप शादी के बाद भी बाहर किसी और शादी शुदा औरत या मर्द के साथ व्यभिचार संबंध ( अनेतिक सम्बन्ध ) बना सकते है और अब ये अपराध नहीं है आप शादी से पहले भी आजाद थे और शादी के बाद भी आजाद है जाओ एन्जॉय ........

केन्द्र सरकार  आज उच्चतम न्यायालय से चिल्लाती रही ये गलत है , किसी अन्य व्यक्ति की पत्नी से विवाहेत्तर यौन संबंध स्थापित करने पर सजा का प्रावधान करने वाली भारतीय दंड संहिता की धारा 497 को निरस्त करने से वैवाहिक संस्था ही नष्ट हो जायेगी परन्तु हमारे श्री कोर्ट ने इक नहीं सूनी  बोले एन्जॉय करो ........

इसमें कहा गया है कि किसी अन्य व्यक्ति की पत्नी के साथ उसकी रजामंदी से यौनाचार करने के लिये सिर्फ उस व्यक्ति को व्यभिचार के अपराध के लिये दंडित किया जाता है। 

यही तो हम कहरहे है दोनों को अपराधी बनाना चाहीये सिर्फ एक को नहीं पर देखीये तमाशा दोनो को ही रिहा कर दीया बोला जाओ एन्जॉय करो .........

"पत्नी का मालिक नहीं है पति" ये तो बोल दीया पर ये बिना बोले ही बोल दीया "पति का मालिक पत्नी ज़रूर है " ये नहीं कहा की कोइ किसी का मालिक नहीं और बोला एन्जॉय करो ..........

हमें ये मंज़ूर नहीं, हम सर्कार से और मीडिया से दरखास्त करते है इसपर फ्हिर विचार क्या जाय और इसमें अगर दोनों सहमती से व्यभिचार करते है तो दोनों को गुनेह्गार मानना चाहिये ......

शादी के बाद एन्जॉय सिर्फ पती के या पत्नी के साथ वरना तलक लो और जहा भी मुह मारना है जा के मारो ..........

 

Soch Sayani started this petition with only 0 Supporter.
Now recieving support and feedback from peoples.
You can also start a petition.

Petition Updates

No Updates Posted Yet.

0 Comments

Top