Started 5 months ago

Boycott Malaysia supporting Zakir Naik and vehemently opposing Indian government extradition and refuse deport?

User Image Jaya Ramani

15 Supporters

985 More Supporters Needed To Complete 1000.
10%

जाकिर नाइक जिसके खिलाफ भारत में हवाला लेनदेन और आतंकी फंडिंग मामले में जिसपर एनआईए द्वारा जांच चल रही हो।  जिसके विवादित भाषणों के जरिए धर्म परिवर्तन करना, लोगो को उकसाना और आतंकी विचारधारा को प्रेरित करने के भी आरोप लगे हो, इन आरोपों के लगने के बाद भी मलेशीया ने जाकिर नाइक जैसे अपराधी और देशद्रोही को नागरिकता प्रदान करना और उसे वहा के प्रधानमंत्री श्री महाथिर बिन मोहमद (92) का खुला समर्थन हिंदुस्तान के खिलाफ है और हिंदुस्तान की सारी कोम और मलेशीया की हिन्दू कम्युनिटी इसका विरोध करती है और मलेशीया को साफ़ साफ़ आगाह और इत्तला करती ,आज से कोई भी हिन्दुस्तानी मलेशीया ना तो घुमने जायेगा, ना तो कोई बिज़नस करेगा और तो और मलेशीया और उनके सारे उत्पादों का खुला बहीष्कार बायकोट और सोशल-ओस्टरीजम के लिये हम तैयार है |

 जाकिर नाइक युवाओं को अपने भड़काऊ भाषण के जरिए ऊकसाता है और 'भारत-विरोधी गतिविधियों' में शामिल होने का भी आरोप लगा है। जाकिर के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया है। जाकिर ने अपने भाषणों के जरिए इस्लाम के नाम पर ना केवल युवाओं को हथियार उठाने के लिए प्रेरित किया है बल्कि उसके संगठन ने घृणा फैलाने में संलिप्त संदिग्ध आतंकियों को वित्तीय मदद पहुंचाने में भी सहयोग किया। बैन के बावजूद जाकिर नायक के भाषणों का वीडियो जम्मू-कश्मीर में लोकल टीवी चैनलों और केबल ऑपरेटरों द्वारा दिखाए जा रहे हैं। इन वीडियो में जाकिर नाइक दूसरे धर्मों को लेकर विवादित बयान देता नजर आ रहा है। गौरतलब है कि सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने जाकिर नाइक के धार्मिक चैलन पीस टीवी पर बैन लगा रखा है।

 

51 साल का जाकिर नाइक साल 2016 में गिरफ्तारी से बचने के लिए भारत छोड़कर भाग गया था तभी पड़ोसी देश बांगलादेश ढाका में आतंकवादी हमले के कुछ हमलावरों ने दावा किया था कि वे जाकिर नायक के भाषणों से प्रेरित थे

 

हिंदुस्तान से भागने के बाद ही ये दोनों देश जानते थे जाकिर नाइक इके आतंकवादी है और अपराधी है फिर भी मिडल ईस्ट मॉनिटर ऑनलाइन न्यूज पोर्टल के मुताबिक जाकिर को सऊदी अरब की नागरिकता मिल चुकी है और अब मलेशीया की नागरिकता की भी पुष्टी  मलेशीया सरकार कर चुकी है

 

भारत और मलेशिया के बीच आतंक के खिलाफ सहयोग बढ़ने के बाद सरकार यह उम्मीद कर रही थी  कि जाकिर नाइक के मामले में मलेशिया भारतीय एजेंसियों से सहयोग करेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसी साल मई के अंत में मलेशिया दौरे पर गए थे। भारत ने शीर्ष स्तर पर एजेंसियों के जरिये मलेशिया सरकार के सामने नाइक का मामला उठाया फिर भी हिंदुस्तान का सहयोग ना करते हुए वहा के प्रधानमंत्री श्री महाथिर बिन मोहमद (92) ने अपराधी का खुला समर्थन करते हुए हिंदुस्तान की और हिन्दुस्तानियों की ज़बरदस्त बेइजती कर दी |

 

मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने विवादित धर्म उपदेशक जाकिर नाईक को भारत प्रत्यर्पित करने से इंकार कर दिया  इसके एक दिन बाद ही शनिवार को मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने मिलने बुला लिया ,ये सीधे सीधे हिंदुस्तान की जानता को चिड़ाने जैसा है | मलेशिया की न्यूज वेबसाइट फ्री मलेशिया टुडे में शनिवार को इस बात की पुष्टि की है कि, आज सुबह जाकिर नाईक ने प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से मुलाकात की। इस वेबसाइट ने इन दोनों की मुलाकात की कुछ तस्वीरें भी प्रकाशित की हैं, जिसमें नाईक और मोहम्मद बिना कोई शर्म हंसकर बातचीत करते हुए दिखाई दे रहे हैं। 

 

जाकिर नाइक ने लेटेस्ट विडियो में हिंदुस्तान की सर्कार, हिंदुस्तान की जनता और हिंदुस्तान की मीडिया खुल्ली चुनोती देते हुआ बहोत अपशब्दों का इस्तेमाल कीया है जाकिर नाइक ने मीडिया को चैलेंज करते हुए कहा - आतंकी मेरे फैन हो सकते हैं, लेकिन मैं दोषी नहीं  

 

मलेशिया को साफ साफ समझ लेना पड़ेगा #NaikInIndiaOut   #IndiaInNaikOut , #जाकिरInइंडियाOut #इंडियाInजाकिरOut #jakirInIndiaOut  #IndiaInJakirOut  #boycottmalaysia #boycottmalaysiatourism #boycottmalaysiabusiness #boycottairasia  

 

From 2000–2013, Malaysia is the 19th largest investor in India with cumulative FDI inflows valued at US$618.37 million.

More than US$6 billion Malaysian investments also come in the form of telecommunications, healthcare, banking and construction projects.

Trade between the two countries has increased from just US$0.6 billion in 1992 to US$13.32 billion in 2012. Beside that, Indian industrial, IT and healthcare companies also investing in Malaysia along with around 150,000 Indians (including 10,000 Indian expatriates) skilled and semi-skilled workers been employed in the country in the sectors of IT, manufacturing and banking.

 Malaysian companies as  participating in many infrastructure projects across different Indian states.

In 2017, India and Malaysia signed a new business deal amounting to U$36 billion with the exchange of 31 business memorandum of understanding (MoUs), the largest in the history of economic relations between the two countries  

 

अगर हम हिन्दुस्तानी मिलकर इस आतंकवाद और आतंकवाद को पनाह देने वाले देसों से दुरी बनाये रखेगे सब पर ज़बरदस्त असर देखेगा

Jaya Ramani started this petition with only 0 Supporter.
Now recieving support and feedback from peoples.
You can also start a petition.

Petition Updates

No Updates Posted Yet.

0 Comments

Top